17 कैंसर कारक खाद्य-पदार्थ

Cancer Causes Food

17 कैंसर कारक खाद्य-पदार्थ

वर्तमान में हम कई तरह का आहार अपने दैनिक जीवन में खाने के लिए इस्तिमाल करते हैं । आज की रफ़्तार भरी लाइफ स्टाइल में हम ध्यान नहीं दे पाते कि क्या खा रहे है । आजकल Soda, कोल्डड्रिंक, fast food, प्रोसेस्ड फूड और Packed खाद्य पदार्थ चलन में है, क्यों कि ये समय बचाते हैं और कभी भी कहीं भी आप इनका उपयोग खाने-पीने में कर सकते हैं । लेकिन इन सब में हम यह भूल जाते हैं की यह हमारे स्वास्थ्य पर क्या असर डालेंगे । इन्ही सब को ध्यान में रखते हुए हमने 17 कैंसर कारक खाद्य-पदार्थ की एक सूची तैयार की है, जिनको खाने से हमेशा बचना चाहिए ।

आज कैंसर एक बहुत ही गंभीर समस्या बन गयी है। वर्तमान में दुनिया में कैंसर के मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बदती जा रही है । इसके उपचार के लिए कई तरह के शोध किये जा रहे हैं । वैसे तो प्राकृतिक रूप से उत्पादित किये गए खाद्य पदार्थ हमें कैंसर जैसी कई बीमारियों से बचाते हैं । पर आज कल जिस तरीके से खाद्य पदार्थों में दवाइयों और अन्य केमिकल का इस्तिमाल हो रहा है उससे यह भोजन ही हमारे लिए अनेक बीमारियों का कारण बन रहा है ।


आइए जानते हैं उन 17 कैंसर कारक खाद्य-पदार्थ के बारे में, जिनको खाने के लिए कई विशेषज्ञ मना करते हैं और जो कैंसर का कारण बन सकते हैं –

कैंसर कारक शाकाहारी खाद्य पदार्थ


17. डिब्बाबंद टमाटर (Canned Tomatoes) –



वैसे तो प्राकृतिक रूप से पैदा किये गए टमाटर कैंसर से लड़ने में मददगार साबित होते है और ये अनेक तरह के संक्रमण, त्वचा रोग से लड़ने में सहायता करते हैं । पर अगर बात की जाये डिब्बा बंद टमाटर की तो ये बहुत ही हानिकारक होते हैं क्योंकि ये अम्लीय होते है और जब इनको डिब्बे में पैक करने के लिए इनमें केमिकल का उपयोग किया जाता है यह केमिकल कैंसर का कारण बनता है ।

इसका एक कारण यह भी है की इन्हें जिस डिब्बे में पैक किया जाता है उन डिब्बों के अस्तर में बिस्फेनॉल ए (बीपीए) होता है जिसे कैनेडियन कैंसर सोसायटी द्वारा एक हानिकारक पदार्थ माना जाता है।
इसलिए हमेशा ताजे और प्राकृतिक रूप से उगाये हुए टमाटर का ही उपयोग भोजन में करना चाहिए। ताकि आप और आपका परिवार स्वास्थ्य रहे


16. माइक्रोवेव पॉपकॉर्न (Microwave Popcorn) –



वैसे तो पॉपकॉर्न को बनाना बहुत ही आसान होता है पर अगर इसको पकाने के लिए माइक्रोवेव ओवन का इस्तिमाल किया जाये तो यह काम और भी आसान हो जाता है । लेकिन आपको माइक्रोवेव पॉपकॉर्न के नकारात्मक स्वास्थ्य प्रभावों के बारे में पता होना चाहिए।

माइक्रोवेव के इस्तिमाल से पेरफ्लूरोएक्टेनोइक एसिड (PFOA) नामक एक खतरनाक यौगिक उत्पन्न होता है जो आपके पॉपकॉर्न में मिला जाता है। पीएफओए एक ज्ञात कार्सिनोजेन है, अध्ययन से पता चलता है कि यह यकृत (liver), प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system), हार्मोन को प्रभावित करता है और साथ ही थायराइड हार्मोन के स्तर को बदल देता है,।

इससे बनने वाला रसायन (पीएफओए-PFOA) अनेक तरह के कैंसर का कारण बनता है, जिसमें यकृत, मूत्राशय, गुर्दे और प्रोस्टेट कैंसर शामिल हैं।

अगर बात की जाये आम तरीके से बनाये हुए (माइक्रोवेव ओवन के बिना) पॉपकॉर्न की तो यह एक लाभदायक स्नैक है । यह स्वाभाविक रूप से कैलोरी में कम और फाइबर में उच्च है। तो हमेशा कोशिश करिए कि मिक्रोवेव ओवन का उपयोग खाना पकाने में कम करें।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *